आबुनाथस्वामी अबधूत विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री महेश्वरानन्द पुरीजी, पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा

मैं जो भी कहता हूं वह महाप्रभुजी के ही शब्‍द हैं । वेदों और उपनिषदों में जो कहा गया है वह महाप्रभुजी ने कहा है । मेरी इच्‍छा आप सब को केवल शरीर से ही स्‍वस्‍थ व सुन्‍दर बनाने की नहीं है, मैं तो आपको जन्‍म मरण के बन्‍धन से ही छुटकारा दिलाना चाहता हूँ । मेरा प्रयास आपके समस्‍त कर्मों को ही काट देने का है । मैं उस सबसे बडे वकील से आपकी वकालत कर रहा हूं और करता रहूंगा कि जब आप इस संसार से जाएं तो आप खाली हाथ न जायें उस समय आपके साथ असली ज्ञान की ज्‍योति भी हो जो आपको परम प्रभु से मिला दे ।

May 2015

विश्वगुरुजी की न्यू यॉर्क यात्रा

 
"दैनिक जीवन में योग" के संस्थापक विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री स्वामी महेश्वरानन्द पुरीजी की उत्तरी अमेरिका की यात्रा के दौरान "दैनिक जीवन में योग" न्यू यॉर्क को परम सौभाग्य प्राप्त हुआ।
April 2015

चेक गणराज्य के स्ट्रिल्की आश्रम में सप्ताह के अंत में सेमिनार

 
१७ – १९ अप्रेल २०१५

सत्यम शिवम सुन्दरम

भारत यात्रा से पूर्व विश्वगुरु परमहंस स्वामी महेश्वरानन्द पुरीजी ने स्ट्रिल्की आश्रम में सप्ताह के अंत में अलग से सेमिनार रखा। ये उन लोगों के लिये एक भाग्यशाली उपहार था, जो स्वामी जी से मिलना चाहते थे।