आबुनाथस्वामी अबधूत विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री महेश्वरानन्द पुरीजी, पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा

मैं जो भी कहता हूं वह महाप्रभुजी के ही शब्‍द हैं । वेदों और उपनिषदों में जो कहा गया है वह महाप्रभुजी ने कहा है । मेरी इच्‍छा आप सब को केवल शरीर से ही स्‍वस्‍थ व सुन्‍दर बनाने की नहीं है, मैं तो आपको जन्‍म मरण के बन्‍धन से ही छुटकारा दिलाना चाहता हूँ । मेरा प्रयास आपके समस्‍त कर्मों को ही काट देने का है । मैं उस सबसे बडे वकील से आपकी वकालत कर रहा हूं और करता रहूंगा कि जब आप इस संसार से जाएं तो आप खाली हाथ न जायें उस समय आपके साथ असली ज्ञान की ज्‍योति भी हो जो आपको परम प्रभु से मिला दे ।

January 2016

महाप्रभुजी की महासमाधि का आयोजन

२९ दिसम्बर २०१५ को भारत से और विदेशों से आये हुए सभी भक्तगण हिन्दू धर्मसम्राट परमहंस श्री स्वामी माधवानंद जी मन्दिर - ॐ  आश्रम, जाडन पाली में एकत्रित हुए। वहाँ एकत्रित होने का उद्देश्य उनके प्रिय गुरुदेव श्री दीपनारायणजी महाप्रभुजी की ५२वीं वर्षगाँठ का आयोजन था इस शुभ अवसर पर विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री स्वामी महेश्वरानंद जी महाराज भी उपस्थित थे।
December 2015

जोधपुर में सम्मेलन

विश्वगुरुजी को राष्ट्रीय सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया , जो कि २५ से २७ दिसम्बर, जोधपुर में आयोजित किया गया।