आबुनाथस्वामी अबधूत विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री महेश्वरानन्द पुरीजी, पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा

मैं जो भी कहता हूं वह महाप्रभुजी के ही शब्‍द हैं । वेदों और उपनिषदों में जो कहा गया है वह महाप्रभुजी ने कहा है । मेरी इच्‍छा आप सब को केवल शरीर से ही स्‍वस्‍थ व सुन्‍दर बनाने की नहीं है, मैं तो आपको जन्‍म मरण के बन्‍धन से ही छुटकारा दिलाना चाहता हूँ । मेरा प्रयास आपके समस्‍त कर्मों को ही काट देने का है । मैं उस सबसे बडे वकील से आपकी वकालत कर रहा हूं और करता रहूंगा कि जब आप इस संसार से जाएं तो आप खाली हाथ न जायें उस समय आपके साथ असली ज्ञान की ज्‍योति भी हो जो आपको परम प्रभु से मिला दे ।

September 2014

अंतर्राष्ट्रीय विश्व शांति दिवस - २१ सितंबर २०१४

विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस आबुनाथस्वामी श्री महेश्वरानन्द पुरीजी व उनके शिष्यों द्वारा २१ सितंबर २०१४ को देश-विदेश के विभिन्न आश्रमों में विश्व शांति दिवस मनाया गया।

September 2014

विश्वगुरु की उपाधि

सन् २००१ में कुंभ मेले प्रयाग राज में श्री महामण्डलेश्वर परमहंस स्वामी महेश्वरानंद जी को काशी विद्वत् समाज के द्वारा विश्वगुरु की उपाधि प्रदान की गई थी।
आज प्रथम बार इसका हिन्‍दी अनुवाद प्रकाशित किया जा रहा है।
August 2014

स्ट्रिल्की में ग्रीष्मकालीन साधना शिविर

स्ट्रिल्की चैक रिपब्लिक, २१ अगस्त २०१४

१) चार सप्ताह के लम्बे समय तक चलकर - स्ट्रिल्की में ग्रीष्मकालीन साधना शिविर सम्मेलन सम्पन्न हो गया। महान् सन्त श्री स्वामी महेश्वरानन्दपुरी जी ने दैनिक जीवन में योग और श्री अलखपुरी जी सि़द्धपीठ परम्परा का संदेश देकर यूरोपीय महाद्वीप की जनता के जीवन में ज्योति जगा दी। सीधे तत्काल प्रसारण के द्वारा यह कार्यक्रम सभी महाद्वीपों तक पहुंच गया ।